Gram Samaj की जमीन का उपयोग कर रहे लोगों पर होगी बड़ी कार्यवाही

Spread the love

 

Cm Yogi Adityanath

लखनऊ। खबर उत्तर प्रदेश के गांवों में रहने वाले उन  लोगों के लिए है जो Gram Samaj की जमीन को अपनी पुश्तैनी जमीन समझ कर उपयोग कर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में 97941 गाँव हैं इन गांवों में रहने वाले वह ग्रामीण सतर्क हो जाएं जो ग्राम समाज Gram Samaj की जमीन का उपयोग ये समझकर कर रहे थे कि वह जमीन उनके पूर्वजों की है और इस पर उनका मालिकाना हक है।

Gram Samaj
GramSamaj की जमीन पर खड़ी फसल को ट्रैक्टर द्वारा नष्ट कराते प्रशासनिक अधिकारी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने बताया कि गांवों की सरकारी और निजी संपत्तियों का व्योरा रखने के लिए ‘स्वामित्व योजना’ शुरू की गई है। जिसके अंतर्गत गाँवों में रहने वाले प्रत्येक ग्रामीण की संपत्ति की ड्रोन के जरिये मैपिंग की जानी है। मैपिंग के बाद ही ग्रामीण को उनकी संपत्ति का भूमि स्वामित्व प्रमाणपत्र दिया जाएगा।

बता दें कि भूमि स्वामित्व का प्रमाणपत्र लेने के बाद स्थिति साफ हो जाएगी कि कौन सी जमीन आपकी है और कौन सी ग्राम समाज Gram Samaj की है। स्थिति साफ होने के बाद आपको मिले आपकी संपत्ति के स्वामित्व प्रमाणपत्र के जरिये अपने मकान में आबादी बाली भूमि पर बैंक से कर्ज भी ले सकेंगे।

उत्तर प्रदेश के जनपद बाराबंकी में यह योजना शुरू हो चुकी है। योगी सरकार ने इस योजना के पहले चरण में 54022 गांवों के स्वामित्व योजना के अंतर्गत शामिल किया गया है। उत्तर प्रदेश के अलावा यह योजना भारत के 6 अन्य राज्यों में भी चल रही है, आपको बता दें कि इस योजना का उद्देश्य ग्रामीण भारत को अपग्रेड करना है।

‘स्वामित्व योजना’ के फायदे:

1.इस योजना के विभिन्न फयदों में से एक महत्वपूर्ण फायदा ये होगा कि वो ग्रामीण जो अपने गांवों में अपनी निजी संपत्ति रखते हैं उनको नवीनतम जानकारी उपलब्ध होगी।

2.प्रत्येक संपत्ति की सीमा में क्षेत्रफल सुनिश्चित होने से निजी संपत्ति के विवाद कम होंगे।

3.प्रत्येक संपत्ति धारक की संपत्ति का प्रमाण पत्र भूमि स्वामित्व प्राप्त होगा।

4.सार्वजनिक उपयोग की संपत्ति का स्थानीय लोग समान तरीके से उपयोग कर सकेंगे.

देश दुनिया की अन्य रोचक व तथ्यपरक खबरों में बने रहने के लिए जुड़े रहिये  www.estradeherald.com के साथ !

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *