Lockdown 3.0: शराब की दुकानों पर लोगों की उमड़ी भीड़, सामाजिक दूरी की उड़ी धज्जियां

Spread the love

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस को रोकने के तीसरा लॉकडाउन (Lockdown 3.0) लागू है। साथ ही इस दौरान सरकार ने रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन में शराब की दुकानों को खोलने की अनुमति दे दी है। इस कारण सोमवार को शराब की दुकानों पर लंबी-लंबी कतारें लग गई।

देश के लगभग हर राज्य से ऐसी तस्वीरें सामने आई, जहां दुकानों पर लोगों की भीड़ सामाजिक दूरी के नियमों की धज्जियां उड़ाती दिखाई दी। कई जगहों पर पुलिस को हालात को काबू करने के लिए लाठीचार्ज करना पड़ा। वहीं, खबरें सामने आई कि शराब की दुकानों को फिर से खोलने से कई राज्यों को जमकर मुनाफा हुआ है।

मुंबई में पांच घंटे तक अधिकारियों के बीच इस बात को लेकर माथापच्ची होती रही कि शराब की दुकानों को फिर से खोला जाए या नहीं। तीन बजे जाकर यह निर्णय लिया गया कि राज्य में फिर से शराब की दुकानों को खोला जाएगा। हालांकि, तब तक बहुत से लोग दुकानों से खाली हाथ लौट गए।

वहीं, दुकान के मालिकों ने कहा है कि मंगलवार को फिर से दुकानें खोली जाएंगी। दूसरी तरफ, महाराष्ट्र के सोलापुर और औरंगाबाद के जिला प्रशासन ने जिले में शराब की दुकानों को फिर से खोलने की अनुमति नहीं दी।

लाइन में लगी महिलाओं ने की दुर्व्यवहार की शिकायत
शहर में बड़ी संख्या में महिलाएं भी शराब के दुकानों के बाहर लगी कतारों में खड़ी दिखाई दी, हालांकि कुछ का कहना था कि वह इतने सारे आदमियों के होने से असहज महसूस कर रही है। कुछ महिलाओं ने पुरुषों द्वारा खुद को चारों ओर से घेरे जाने की शिकायत की। वहीं, महिलाओं ने बताया कि कई लोगों ने कतारों में लगे होने के दौरान उनका मजाक बनाया।

women at wine shop
शराब की दुकान के बाहर लाइन में खड़ी महिलाएं अपनी बारी का इन्जार करती हुई

हालांकि, शहर की कुछ दुकानों द्वारा महिलाओं की ज्यादा संख्या होने पर उनके लिए अलग कतार भी बनाई गई.

कोलकाता में लोगों ने सामाजिक दूरी के नियमों का उल्लंघन किया, जिसके चलते कुछ जगहों पर मजबूरन पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। उत्तर प्रदेश के शहरों में भी शराब की दुकानों के बाहर लंबी कतारें देखने को मिली।

आपको बता दें कि आबकारी विभाग के अधिकारियों ने बताया कि औसत दैनिक बिक्री 70-80 करोड़ रुपये के मुकाबले सोमवार को 100 करोड़ रुपये से अधिक की बिक्री दर्ज की गई।

देश दुनिया की अन्य रोचक और तथ्यपरक ख़बरें पढने के लिए जुड़े रहिये हमारे साथ. घर पर रहिये सुरक्षित रहिये.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *