Pranab Mukherjee Death: प्रणब मुख़र्जी का सदैव मार्ग दर्शन मिला, बोले पीएम मोदी

Spread the love

भारत के पूर्व राष्ट्रपति और भारत रत्न, प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) का सोमवार को दिल्ली के अस्पताल में निधन हो गया। भारत के सबसे बड़े नेताओं में से एक माननीय श्री प्रणब मुख़र्जी ने 84 वर्ष की आयु में इस दुनिया को अलविदा कह दिया। ज्ञात रहे कि प्रणब मुख़र्जी कुछ सप्ताह पहले कोरोनावायरस पॉजिटिव पाए गये थे। प्रणब मुख़र्जी (Pranab Mukherjee) की एक ब्रेन सर्जरी के बाद हालत अधिक ख़राब हो जाने के कारण उन्हें कोमा में रखा गया था।अस्पताल के डॉक्टरों के अथक प्रयास के बावजूद भी वे उन्हें नहीं बचा पाए। अतः 31 अगस्त 2020 को भारत देश ने एक महान राजनेता खो दिया।

बताते चलें कि उनके पार्थिव शरीर को राजा जी मार्ग स्थित उनके दिल्ली आवास पर पहुंचा दिया गया है। सूत्रों की मानें तो उनक अंतिम संस्कार आज दोपहर 2 बजे दिल्ली में ही किया जायेगा। साथ ही केंद्र ने श्री प्रणब मुख़र्जी (Pranab Mukherjee) के निधन पर सात दिवसीय राजकीय शोक घोषित किया है।

अपने पिता के निधन की सूचना सोशल मीडिया पर साझा करते हुए श्री प्रणब मुख़र्जी (Pranab Mukherjee) के बेटा अभिजीत मुख़र्जी (Abhijit Mukherjee) ने ट्विटर पर लिखा,  “हेवी हार्ट के साथ, यह आपको सूचित करना है कि मेरे पिता श्री प्रणव मुखर्जी का अभी आरआर अस्पताल के डॉक्टरों के सर्वोत्तम प्रयासों और पूरे भारत में लोगों से प्रार्थना और दुआओं के बावजूद निधन हो गया है! मैं आप सभी का धन्यवाद करता हूँ।”

10 अगस्त को अस्पताल में भर्ती कराये गये श्री मुख़र्जी की ब्रेन में कोई समस्या होने की वजह से उसी दिन उनकी सर्जरी होने की वजह से उनकी हालत ख़राब होगई थी। श्री प्रणब मुख़र्जी (Pranab Mukherjee) के निधन पर सभी दिग्गज राजनेताओं ने शोक व्यक्त किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दुःख व्यक्त करते हुए कहा कि उन्हें सदैव श्री मुख़र्जी जी का मार्गदर्शन मिला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *